When will one get Bhakti – Babaji Sri Ramesh Babaji Maharaj

आज कल सच्ची भक्त्ति देखने को कहा है ?
सब लोग भक्त्ति का नाटक कर रहे है ! एक भक्त्त दुसरे भक्त्त से इर्ष्या कर रहा है !
जहाँ ह्रदय में द्वेष की अग्नि जल रही है,ऐसे ह्रदय में प्रभु कैसे आयेंगे !
रास चाँदनी में होता है, कड़ी दोपहरी में नही !
एक अग्नि को ह्रदय से दूर कर दो, वरना कभी भी तुम्हे इष्ट चरण नही मिलेंगे !
कभी भी इष्ट दर्शन नही मिलेंगे ! कभी भी इष्ट प्रेम नही मिलेगा !

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: