Love for Krsna is ever increasing- Swami Sri Ramsukhdasji Swami

भगवत्प्रेम में अनन्त रस है| अनन्तरस का तात्पर्य है कि प्रेम प्रतिक्षण वर्धमान है| प्रतिक्षण वर्धमान होने के लिए प्रेममें विरह और मिलन – दोनों का ही होना आवश्यक है| कारण कि विरह के बिना रस कि वृद्धि नहीं होती और मिलन के बिना रस कि अनुभूति नहीं होती|

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: